Contact Me

Dr. Yogesh Vyas

Mobile: +91 8696743637
Email: aacharyayogesh@gmail.com

Navgrah Mantra

नवग्रहों के तांत्रिक और बीज मंत्र

  ग्रह

             तांत्रिक-मंत्र

                       बीज-मंत्र

सूर्य

ॐ घृणि: सूर्याय नम:।।

ॐ ह्रीं हौं सूर्याय नम:।।

चंद्र

                ॐ सों सोमाय नम:।।

ॐ ऐं क्लीं सोमाय नम:।।

भौम

ॐ अं अंङ्गारकाय नम:।।

ॐ हूं श्रीं भौमाय नम:।।

बुध

ॐ बुं बुधाय नम:।।

ॐ ऐं श्रीं श्रीं बुधाय नम:।।

गुरु

ॐ बृं बृहस्पतये नम:।।

ॐ ह्रीं क्लीं हूं बृहस्पतये नम:।।

शुक्र

ॐ शुं शुक्राय नम:।।

ॐ ह्रीं श्रीं शुक्राय नम:।।

शनि

ॐ शं शनैश्चराय नम:।।

ॐ ऐं ह्रीं श्रीं शनैश्चराय नम:।।

राहु

ॐ रां राहवे नम:।।

ॐ ऐं ह्रीं राहवे नम:।।

केतु

ॐ कें केतवे नम:।।

ॐ ह्रीं ऐं केतवे नम:।।

 

1-सूर्य के बीज मंत्र का सूर्योदय समय 7000 जप 40 दिन में करें।
2- चंद्र के मूल मंत्र का 40 दिन में 11,000 मंत्र का जाप करें।
3- मंगल के मंत्र का 10 हजार बार जाप करें ।
4- बुध के मूल मंत्र का सवेरे 5 घटी के अंदर 9,000 या 16,000 पाठ 40 दिन में करें ।
5- गुरु के बीज मंत्र का संध्या समय 19,000 जप 40 दिन में करें।
6- शुक्र के मूल मंत्र का जप सूर्योदयकाल में 16,000 जप 40 दिन में करें।
7- शनि के मूल मंत्र का जप संध्या समय 40 दिन में 23,000 जाप करें।
8- राहु मूल मंत्र का जप रात्रि में 18,000 बार 40 दिन में करें !

9- केतु के मूल मंत्र का रात्रि में 40 दिन में 18,000 बार जप करें। 
>