Contact Me

Dr. Yogesh Vyas

Mobile: +91 8696743637
Email: aacharyayogesh@gmail.com

कुंडली में ग्रहों की युती और उसका फल

  ●सूर्य+चन्द्रमा- राजकीय ठाठ - बाठ , अधिकार, पद, उत्तम राजयोग , डॉक्टर , दो विवाह , गृहस्थ जीवन हल्का , स्त्रीयों द्वारा विरोध, बुढ़ापा उत्तम।
● सूर्य+ मंगल- साहसी , अग्नि से सम्बंधित कामों में सफलता , सर्जन , डॉक्टर , अधिकारी , सर में चोट, का निशान , दुर्घटना , खुद का मकान बनाये।
● सूर्य+बुध- विद्या , बुद्धि देता है, सरकारी नौकरी, ज्योतिष , अपने प्रयास से धनवान , बचपन में कष्ट ।
● सूर्य+गुरू- मान-मर्यादा , श्रेष्टता , उच्च पद तथा यश में वृद्धि करता है, स्वयं की मेहनत से सफलता।
● सूर्य+शुक्र- कला,साहित्य, यांत्रिक कला, क्रोध, प्रेम सम्बन्ध, बुरे, गृहस्थ बुरा , संतान में देरी , तपेदिक , पिता के लिए अशुभ।
● सूर्य+शनि- पिता-पुत्र में बिगाड़ अथवा जुदाई। युवावस्था में संकट, राज दरबार बुरा। स्वास्थ कमजोर। पिता की मृत्यु , गरीबी। घरेलू अशांति। पत्नी का स्वास्थ कमजोर।
● सूर्य+राहू- सरकारी नौकरी में परेशानी। चमड़ी पर दाग , खर्च हो। घरेलू अशांति , परिवार की बदनामी का डर। श्वसुर की धन की स्थिति कमजोर। सूर्य को ग्रहण।
● सूर्य+केतू- सरकारी काम अथवा सरकारी नौकरी में उतार-चढ़ाव। संतान का फल बुरा।
● चन्द्रमा+मंगल- मन की स्थिति डांवाडोल। दुर्घटना। साहसिक कामों से धन लाभ, उत्तम धन।
● चन्द्र+बुध- उत्तम वक्ता। बुद्धिमत्ता। लेखन शक्ति। गहन चिंतन। स्वास्थ में गड़बड़। दो विवाह योग। मानसिक असंतुलन।
● चन्द्र+गुरू- उत्तम स्थिति,धन प्राप्ति,बैंक में अधिकारी,उच्च पद,मान-सम्मान। धनी। यदि पाप दृष्टी हो तो विद्द्या में रूकावट।
● चन्द्र+शुक्र- दो विवाह योग। अन्य स्त्री से सम्बन्ध। विलासी। शान-शौकत का प्रेमी। रात का सुख।
● चन्द्र+शनि- दुःख। मानसिक तनाव। नज़र की खराबी। माता तथा धन के लिए ठीक नहीं। हर काम में रूकावट। गरीबी। शराबी। उदास ,सन्यासी। स्त्री सुख में कमी।
●चन्द्र+राहू- पानी से डर। शरीर पर दाग। विदेश यात्रा। जिस भाव में स्थित हो उसकी हानी।
● चन्द्र+केतू- विद्या में रूकावट। मूत्र वीकार। जोड़ों में दर्द। केमिष्ट।
● मंगल+बुध- साहसिक कार्यो से लाभ,बुद्धी-साहस का योग। खोजी निगाह। स्पष्ट वक्ता। इंजीनियर। डाक्टर। दुर्घटना आदि।
● मंगल+गुरू- गणितज्ञ , विद्वान , ज्योतिषी, खगोल शास्त्री , पीलिया, धनवान , अगुआ, तथा नेता।
● मंगल+शुक्र- व्यापार में कुशल,धातु शोधक। विमान चालक। साहसी। अंतराष्ट्रीय व्यापार। ऑटोमोबाइल। कार। फर्नीचर।
● मंगल+शनि- दुर्घटना। इंजीनियर। डॉक्टर। भाइयों से अनबन। धन संग्रह में रूकावट। चमड़ी तथा खून में वीकार। साहसिक कार्यों में सफलता। धन-दौलत चोरी। डाकू। ड्राइवर। सरकारी अधिकारी।
● मंगल+राहू- कम बोले। उत्साही। चुस्त। फसादी। दिमाग तेज। शाही सवारी। अधिकारी। रसोई में होशियार।
●मंगल+केतू- संतान का फल शुभ। पुत्र साहसी। तपेदिक। चमड़ी तथा पैरों में रोग। जोड़ों का सूजन। आत्महत्या आदि।
● बुध+गुरू- विद्वान। कवि। काव्य रचियता, कभी अमीर , कभी गरीब। अकाउंटेंट। बैंक में अधिकारी। एजेंट। वकील।
●बुध+शुक्र- अर्द्ध सरकारी,सरकारी नौकरी। घरेलू सुख। कला कौशल। शिल्प कला,प्रेम सम्बन्ध खराब। मशीनरी, क्लर्क।
● बुध+शनि- कम बोलने वाला। गंभीर स्वभाव। बीमा व्यवसाय। शराबी। स्त्रीयों का मिलनसार। पिता के लिए बुरा।
●बुध+राहू- पागल खाना। जेल। हस्पताल। जानवरों का शिकारी। दिमाग में विकार। मानसिक तनाव। शिकारी।
●बुध+केतू- यात्रा लगी रहे। कमर, पेशाब, एवं रीढ़ की हड्डी में वीकार तथा दुःखी। पैरों में विकार। अन्वेषक। जादू टोना।
●गुरू + शुक्र- सुखी। बलवान। चतुर. नीतिवान। पत्नी या पिता एक सहायक। घरेलू अशांति। अध्यापिका।
●गुरू + शनि- कार्यों में निपुण। धनी। तेजस्वी। विद्या में रूकावट। पत्नी तथा पिता के लिये अशुभ। बीमारी। चिंतन शक्ति उत्तम।
पूर्ण फलादेश सम्पूर्ण कुंडली विश्लेषण से ही संभव है अतः कुंडली एवं रत्न परामर्श हेतु जयपुर कार्यालय पर सम्पर्क करें !

>